पैगंबर हज़रत मुहम्मद के समर्थन की वेबसाइट - अस्र की नमाज़



عربي English עברית Deutsch Italiano 中文 Español Français Русский Indonesia Português Nederlands हिन्दी 日本の
Knowing Allah
  
  
---क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है? ---उस पर व्यभिचार का आरोप लगाया गया जबकि वह बेगुनाह है, और उसके पास अपनी बेगुनाही का कोई सबूत व प्रमाण नहीं है। तो वह क्या करे? ---क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है? ---क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है? --- नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का वुज़ू नींद से नहीं टूटता है। ---उस पर व्यभिचार का आरोप लगाया गया जबकि वह बेगुनाह है, और उसके पास अपनी बेगुनाही का कोई सबूत व प्रमाण नहीं है। तो वह क्या करे? ---वादा-ख़िलाफ़ी सख़्ती से मना ---दुश्मन की लाशें उसके हवाले करना ---दुश्मन की लाशों पर गु़स्सा न निकाला जाए ---दुश्मन की लाशों पर गु़स्सा न निकाला जाए

Under category
Creation date 2012-07-21 03:28:02
Hits 559
इस पेज को किसी दोस्त के लिए भेजें Print Download article Word format Share Compaign Bookmark and Share

   

-अज़ान के शब्दों को दुहराना चाहिए l

-अज़ान और इक़ामत के बीच दुआ करना चाहिए l

अस्र से पहले या बाद में कोई नियमित सुन्नत नमाज़ नहीं है l लेकिन हज़रत पैगंबर -उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो-ने फ़रमाया:

"رحم الله امرءًا صلى قبل العصرأربعًا"

)अल्लाह सर्वशक्तिमान उस व्यक्ति पर दया करे जो अस्र से पहले चार रकअत पढ़ता है l) अब प्रश्न यह है कि हम में कौन ऐसा आदमी है जो अल्लाह के कृपा की इच्छा नहीं रखता है ? उसके बाद नमाज़ खड़ी होने तक शुभ क़ुरआन पढ़ने में लगे रहेंl
-
फ़र्ज़ नमाज़ पढ़ने के बाद नमाज़ के खत्म पर पढ़ी जानेवाली दुआएं और ज़िक्र पढ़ें l और यदि अस्र की नमाज़ के बाद मस्जिद में ही उपदेश की बैठक हो तो उसमें बैठना और सबक सुनना बहुत अच्छी बात है l

याद रहे कि शुभ रमज़ान में सबसे अच्छी इबादत क़ुरआन को पढ़ना है l लेकिन यदि आप उसके साथ अन्य प्रकार की इबादत को इकठ्ठा करते जाएँ तो फर और अच्छी बात है l

-उपदेश सुनने के बाद माजिद में ही रह कर शुभ क़ुरआन पढ़ें l इस विषय में हज़रत पैगंबर -उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो-ने फ़रमाया है जैसा कि हज़रत अबू हुरैरा –अल्लाह उनसे प्रसन्न रहे-से कथित है :

"لا يزال العبد في صلاة ما كان في مصلاه؛ ينتظر الصلاة، والملائكة تقول:اللهم اغفر له، اللهم ارحمه، حتى ينصرف أو يحدث)رواه مسلم(.

(एक व्यक्ति उस समय तक नमाज़ में ही होता है (यानी नमाज़ पढ़ने का पुण्य पाता है l) जब तक वह नमाज़ के इन्तेज़ार में अपनी नमाज़ की जगह पर होता है l और फ़रिश्ते कहते हैं: ऐ अल्लह ! इसे माफ करदे, इस पर दया कर l यहाँ तक वह आदमी वापस हो जाए या बेवुज़ू हो जाए l) [इसे मुस्लिम ने उल्लेख किया है l]

 








Bookmark and Share


أضف تعليق

You need the following programs: الحجم : 2.26 ميجا الحجم : 19.8 ميجا