पैगंबर हज़रत मुहम्मद के समर्थन की वेबसाइट - इशा (रात) की नमाज़



عربي English עברית Deutsch Italiano 中文 Español Français Русский Indonesia Português Nederlands हिन्दी 日本の
Knowing Allah
  
  
---क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है? ---उस पर व्यभिचार का आरोप लगाया गया जबकि वह बेगुनाह है, और उसके पास अपनी बेगुनाही का कोई सबूत व प्रमाण नहीं है। तो वह क्या करे? ---क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है? ---क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है? --- नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का वुज़ू नींद से नहीं टूटता है। ---उस पर व्यभिचार का आरोप लगाया गया जबकि वह बेगुनाह है, और उसके पास अपनी बेगुनाही का कोई सबूत व प्रमाण नहीं है। तो वह क्या करे? ---वादा-ख़िलाफ़ी सख़्ती से मना ---दुश्मन की लाशें उसके हवाले करना ---दुश्मन की लाशों पर गु़स्सा न निकाला जाए ---दुश्मन की लाशों पर गु़स्सा न निकाला जाए

Under category
Creation date 2012-07-21 03:32:39
Hits 1133
इस पेज को किसी दोस्त के लिए भेजें Print Download article Word format Share Compaign Bookmark and Share

   

-इशा की नमाज़ के लिए 20 मिनट पहले पहुँच जाना चाहिए और इस समय को शुभ क़ुरआन को पढ़ने में लगाना चाहिए l और शुभ क़ुरआन का वही भाग पढ़ना अच्छा है जो तरावीह में पढ़ा जाएगा (याद रहे कि तरावीह एक बीस रकअत की विशेष नमाज़ जो शुभ रमज़ान में इशा की नमाज़ के बाद पढ़ी जाती है l) और भावुक आयतों को दुहरा दुहरा कर पढ़ें इस से तरावीह की नमाज़ में आपका दिल लगेगा l

-आज़ान के शब्दों को दुहराना चाहिए l

-अज़ान और इक़ामत के बीच दुआ करनी चाहिए l
- फिर इशा की नमाज़ अदा करनी चाहिए l इमाम मुस्लिम की पुस्तक में हज़रत उस्मान बिन अफ्फान-अल्लाह उनसे प्रसन्न रहे- के द्वारा कथित है उन्होंने हज़रत पैगंबर -उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो- को फरमाते सुना :

 

"من صلى العشاء في جماعة فكأنما قام نصف الليل، ومن صلى الصبح في جماعة فكأنما صلى الليل كله".

(जिसने इशा की नमाज़ जमाअत के साथ पढ़ी तो वह ऐसा है जैसे आधी रात तक नमाज़ पढ़ी और जिसने फज्र की नमाज़ जमाअत से पढ़ी तो ऐसा है जैसे पूरी रात नमाज़ पढ़ी l)

-नमाज़ के बाद की दुआ और ज़िक्र पढ़ना चाहिए l

-इशा की नमाज़ के बादवाली दो रकअत सुन्नत पढ़नी चाहिए l
-इशा की नमाज़ के बाद इमाम के साथ तरावीह की नमाज़ अदा करनी चाहिए l क्योंकि शुभ हदीस में है:

"من قام مع الإمام حتى ينصرف كتب له قيام ليلة"

 

(जो इमाम के साथ नमाज़ (तरावीह) पढ़े यहाँ तक कि वह वापिस लौटें तो उसके लिए रात भर नमाज़ लिखी जाएगीl) इसलिए आपका प्रयास यही रहना चाहिए कि इस हदीस के अनुसार पूरी रात नमाज़ पढ़ने का पुरस्कार आपको मिले और इमाम के तरावीह खत्म करने से पहले आप वापिस न हों l








Bookmark and Share


أضف تعليق

You need the following programs: الحجم : 2.26 ميجا الحجم : 19.8 ميجا