-तहज्जुद की नमाज़

-रात के अंतिम तीसरे भाग में जाग जाइए क्योंकि रात का यह भाग ऐसा है जिस में दुआ और आदमी के अच्छे काम स्वीकार होते हैं l