1-स्वर्ग पाने की नियत रखना :

हज़रत पैगंबर -उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो-ने फरमाया :

"اتقوا ربكم، وصلوا خمسكم، وصوموا شهركم، و أدوا زكاة أموالكم، و أطيعوا

أمركم - تدخلوا جنة ربكم".

(अपने रब से डरो, और अपनी पाँचों (नमाजों) को पढ़ो और अपने महीने (रमज़ान) का रोज़ा रखो और अपने धन की ज़कात दो और अपने शासक की बात मानो, अपने रब के स्वर्ग में प्रवेश हो जाओगेl) (देखिए सिलसिला सहीहा l)