बाथरूम में प्रवेश करना और बाहर निकलना


बाथरूम में प्रवेश करना और बाहर निकलना
इस से संबंधित भी कई सुन्नतें हैं:


१- प्रवेश होते समय पहले बायें पैर को रखना और निकलते समय पहले दाहिने पैर को बाथरूम से बाहर रखना भी सुन्नत है.
२ – प्रवेश के समय की दुआ यूँ है:
[ اللهم إني أعوذ بك من الخبث والخبائث ]
(अल्लाहुम्मा इन्नी अऊज़ु बिका मिनल-खुबसे वल-खबाइस)
"हे अल्लाह! मैं स्त्री और पुरुष शैतानों से तेरे शरण में आता हूँ."


इमाम बुखारी और मुस्लिम इस पर सहमत हैं.
३ -बाहर नकलने के समय की दुआ:
[ غفرانك ]
(ग़ुफ़रानक)


(तुझी से माफ़ी चाहता हूँ )
इमाम नसाई को छोड़कर सभी "सुन्न" लिखने वालों ने इसे उल्लेख किया है.
एक व्यक्ति दिन और रात में कई बार बाथरूम में प्रवेश करता है और बाहर निकलता है. और कितनी अच्छी बात है कि प्रवेश करते समय और निकलते समय इन सुन्नतों को लागू करे, दो सुन्नत प्रवेश करते समय और दो सुन्नत निकलते समय.

Previous article Next article